top of page

पुनर्वास केंद्र

पढ़ें हमारा रिहैब सेंटर हमारी सुरक्षा के लिए कैसे कोरोना वायरस लॉक डाउन का प्रबंधन कर रहा है
इम्युनो समझौता किया लाभार्थियों यहाँ
Rehab Center.bmp

लाल बत्ती क्षेत्रों में रहने वाले व्यावसायिक यौनकर्मियों के बच्चों को अक्सर बचपन से वंचित कर दिया जाता है क्योंकि वे अपनी माँ के पेशे और संबंधित व्यसनों, हिंसा और बाल श्रम के संपर्क में आते हैं। जहां लड़कियों को व्यवसाय में तैयार किया जाता है, वहीं लड़के अक्सर दलाल बन जाते हैं।

हम कैसे मदद करते हैं

हमारी प्रमुख परियोजना यौनकर्मियों के 250 बच्चों, देह व्यापार से छुड़ाए गए नाबालिगों और एचआईवी द्वारा अनाथ और/या रहने वाले बच्चों को पालक देखभाल प्रदान करती है। दुर्भाग्य से, हमारे कई बच्चे खराब पोषण और एआरटी को प्रभावी ढंग से संचालित करने की समझ की कमी के कारण खराब स्वास्थ्य में आते हैं। हमारा 'होम ऑफ लव' आश्रय, शिक्षा और व्यावसायिक प्रशिक्षण के साथ-साथ एक ऑन-साइट स्कूल और एचआईवी अस्पताल मुफ्त और बारीकी से निगरानी वाले एआरटी प्रदान करता है। यह हमारे दीर्घकालिक महिला आश्रय और प्रधान कार्यालय का भी घर है।

हम किसकी मदद करते हैं

हमारे बच्चे खुश, सक्रिय और स्वस्थ जीवन जीते हैं, स्कूल और शाम की पुनरीक्षण कक्षाओं में भाग लेते हैं और पाठ्येतर खेलों, सांस्कृतिक कार्यक्रमों और मनोरंजक गतिविधियों में भाग लेते हैं। वे परामर्श प्राप्त करने और एक लोकतांत्रिक बाल संसद में अपनी भूमिका निभाने में सक्षम हैं जो उन्हें किसी भी मुद्दे को उठाने और अपने घर के वातावरण के प्रबंधन में सक्रिय भूमिका निभाने की अनुमति देता है।

तुम कैसे मदद कर सकते हो

हमारे बच्चों को स्वतंत्र और महत्वाकांक्षी होने के लिए उठाया गया है और हमने दूसरी पीढ़ी की वेश्यावृत्ति को 100% तक सफलतापूर्वक कम कर दिया है। अधिक से अधिक बच्चों को सुरक्षित और सुरक्षित भविष्य देने में हमारी मदद करें।

latest news

Parts.png
इस भाषा में अभी तक कोई पोस्ट प्रकाशित नहीं हुई
पोस्ट प्रकाशित होने के बाद, आप उन्हें यहाँ देख सकेंगे।
आप क्या करने जा रहे हैं, इसके बारे में बात करना ही काफी नहीं है, जब आप कोई समस्या देखते हैं, जब आप अन्याय देखते हैं, तो आपको कार्य करना चाहिए
मिलो...

गिरीश कुलकर्णी

स्नेहालय के संस्थापक, जिनके समर्पण ने अन्याय से लड़ने के लिए स्नेहालय देखा है, और पुनर्वसन केंद्र आज देखभाल का धड़कता दिल बन गया है।

bottom of page